Breaking News

जिला कलेक्टर रमेश शर्मा कवर्धा के द्वारा अपील

“अति आवश्यक होने पर ही घर से निकलें, कोरोना रोकथाम के निर्देशों का पालन करें”

कवर्धा – मेरे जिले की समस्त सम्मानीय जनता से आग्रह है कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जो निर्णय जिला प्रशासन की ओर से लिया गया है उसे समझकर अनिवार्य पालन करें। कोरोना नियंत्रण के लिए लॉक डाउन ही एक मात्र रास्ता नही है, बल्कि हम अपने रोज कमाने रोज खाने, किराए के घरों पर रहकर दुकानों में काम करके अपना घर चलाने वाले, कर्ज लेकर छोटा व्यापार करके अपना जीवन यापन करने वाले व गरीब जनों के बारे में भी अवश्य सोचें। बहुत बड़े तबके की जरूरतों व समस्याओं को ध्यान में रखकर ही यह निर्णय लिया है कि

कोरोना का निगेटिव रिपोर्ट होगा तभी अन्य जिलों से आने की अनुमति दी जाएगी व पिछले तीन दिन की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट होने पर ही कवर्धा शहरी क्षेत्र में प्रवेश की अनुमति होगी। आने वाले 31 अप्रैल तक के लिए हमने यह निर्णय लिया है और इस बीच यदि कोई भी व्यक्ति बार-बार शहर में प्रवेश करता है तो उसे कोरोना जांच कराना अनिवार्य होगा। ऐसा करके हम भीड़ को रोकने का प्रयास कर करेंगे। इससे लोगों का बेवजह आना-जाना प्रतिबंधित किया जा सकेगा।

सम्पूर्ण लॉक डाउन में एक बड़े तबके को जीवकोपार्जन सम्बन्धी कठोर समस्या का सामना करना पड़ता है। जनता स्वयं को अनुशासित करे और बाजारों में बेवजह की भीड़ न करे। अति आवश्यक होने पर ही बाजार जाएं। लॉक डाउन की स्थिति में आवश्यक जरूरत के समय भटकना पड़ सकता है, लेकिन कुछ आवश्यक गाइड लाइन का पालन करके दिनचर्या की जरूरी सामान उपब्ध की जा सकती है।

घर से बाहर मास्क का अनिवार्य उपयोग करें और शारीरिक दूरी बनाकर रखें। चेहरे, आंखों अथवा नाक को हाथ से छूने से बचें, मास्क उतारने से पहले हाथ धोएं अथवा अच्छी तरह से सेनेटाइज कर लें।

मुझे अपने जिले की जनता से पूर्ण उम्मीद और विश्वास है कि आप सभी जागरूकता का परिचय देकर इस संकट की घड़ी में स्वयं अनुशासित रहकर अपने परिवार जनों व समाज की सेहत को सुरक्षित रखने में हमारी मदद करेंगे। इससे किसी वर्ग को जीवकोपार्जन की मानसिक समस्या का बोझ भी नही होगा।



 

About newscg9

newscg9

Check Also

कलेक्टर ने विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा छात्रावास के बच्चों से चर्चा कर पढ़ाई और भोजन व्यवस्था की ली जानकारी एवं स्वामी आत्मानंद स्कूल का किया निरीक्षण

कलेक्टर जनमेजय महोबे ने लैब, ऑडिटोरियम, आईटी रूम, लाइब्रेरी, क्लासरूम, खेल मैदान, शौचालय की गुणवत्ता …