Breaking News

किसानों के लिए गोधन न्याय योजना बनी आय का स्त्रोत,

स्व-सहायता समूह की महिलाएं बन रही आत्मनिर्भर

बेमेतरा | 25 नवम्बर 2020-राज्य सरकार की बहुआयामी महत्वाकांक्षी गोधन न्याय योजना अंतर्गत बेमेतरा जिले में गोधन न्याय योजना गौपालक किसानों और ग्रामीणों के लिए सार्थक हो रही है। योजना का लाभ उठाकर किसान गौठानों में गोबर विक्रय करके आर्थिक आमदनी तो अर्जित कर रहे है, साथ ही गुणवत्तायुक्त वर्मी कम्पोस्ट खाद अपने खेतों में डालकर खेतों की उर्वरकता शक्ति भी बढ़ाने की ओर अग्रसर है। इस योजना से ग्रामीणों मंे उत्साह है। साथ ही गोबर का सही उपयोग होने से उन्हें खुशी भी हो रही है। पशुओं की देखभाल एवं उनके संरक्षण संवर्धन को लेकर भी अब ग्रामीणों में जागरूकता बढ़ी है। साथ ही ग्रामीणजन अपने पशुओं का प्रतिदिन गोबर एकत्रित करके गौठान में बेचते है। जिससे उनके गोबर का सही सदुपयोग होने लगा है।

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकंाक्षी योजना गोधन न्याय योजना के तहत ग्रामीणों का विभिन्न आजीविका से जोड़ा जा रहा है। गौठान ग्राम में साक-सब्जी के उत्पादन के साथ ही स्व-सहायता समूह की महिलाएं आजीविका संवर्धन की विविध गतिविधियां करते हुए वर्मी कम्पोस्ट खाद एवं गोबर के लकड़ी व दिये तैयार करके आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन रहे है। कलेक्टर के मार्गदर्शन में गौठानों में स्व-सहायता समूह की महिलाओं को आजीविका से जोड़ने के लिए निरंतर प्रयासरत है। प्रत्येक विकासखण्ड में 5-5 माॅडल गौठान बनाए जाने की दिषा में कार्य किया जा रहा है। जंहा एक ही जगह गौपालकों, स्व-सहायता समूहों और किसानों को रोजगार एवं आर्थिक लाभ मिल सके। बेमेतरा जिले में 20 आदर्ष गौठान बनाने के लिए कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। जंहा एक ही जगह पर मल्टी एक्टीविटी किया जा सके।

छत्तीसगढ़ शासन की महत्वाकंाक्षी योजना गोधन न्याय योजना 20 जुलाई 2020 से प्रारंभ की गई है। अब तक 8 किष्तों में 6404 किसानों से 67243 क्विंटल गोबर की खरीदी की गई और किसानों को कुल राषि, 1 करोड़ 28 लाख रूपये का भुगतान गोबर विक्रताओं को किया जा चुका है।



 

About newscg9

newscg9

Check Also

कलेक्टर ने विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा छात्रावास के बच्चों से चर्चा कर पढ़ाई और भोजन व्यवस्था की ली जानकारी एवं स्वामी आत्मानंद स्कूल का किया निरीक्षण

कलेक्टर जनमेजय महोबे ने लैब, ऑडिटोरियम, आईटी रूम, लाइब्रेरी, क्लासरूम, खेल मैदान, शौचालय की गुणवत्ता …